pdf BP 17-1-3-03 BSSTP Sri Guru tattva - part 1

54 downloads

जो संसाररूप मृत्युसे मेरी रक्षा करते हैं, वे ही गुरुपादपद्म है।'मैं मर जाऊॅंगा'-इस भयसे, इस आशंकासे जो मेरा उद्धार कर सकते हैं, वे ही सद्गुरु हैं।

वर्ष—१७ • संख्या—१-३ • प्रबन्ध क्रमांक—३
श्रीगुरुतत्त्व और श्रील प्रभुपाद (१)
श्रील भक्तिसिद्धान्त सरस्वती ठाकुर 'प्रभुपाद' का वाणी-वैभव

image
image
image
image